ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
तुम्हारे दिल में बसने वाला ख़्याल ही सावन का असली रंग है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
July 24, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

सावन के रंग कितने हैं बताना आसान नहीं है इतना ! 

तुम्हारे दिल में बसने वाला ख़्याल ही सावन का असली रंग है !! 

*************************

सावन के फूल खिलते ही लोगों को लुभाने लगते हैं ! 

देखो तो बड़ा नायाब रंग है इन सावन के फूलों का !! 

*************************

सावन की घटाएं अक्सर सवाल करने लगती हैं मुझसे ! 

कुछ का उत्तर तो आसान होता है मगर कुछ का गूढ़ लगता है !! 

*************************

सावन की रिमझिम में मेरा मन मयूर हो जाता है ! 

मन को कैसे समझाऊं ? मन कहता है मेरी मर्जी !! 

*************************

सावन की तमाम खुशबुओं में मेरे दिल के एहसास शामिल हैं ! 

मगर हर खुशबू तन्हा अपनी किस्मत पर नाज़ करती है !! 

*************************

सावन की बारिश में खुलकर नहाने का मजा तो देखिए ! 

हर एक बूंद में खुशबू का रंग निखरता है तन की खुशबू पाकर !! 

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !