ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
शुक्र है ख़ुदा का जो नाज़ुक वक्त में मुस्कुरा रहे हो तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
August 9, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

बहुत नाज़ है है तुमको अपनी शानदार ज़िंदगी पर !

शुक्र है ख़ुदा का जो नाज़ुक वक्त मैं मुस्कुरा रहे हो तुम !! 

*************************

ज़िंदगी की हसीन राहों में न जाने कितने मिलते हैं ! 

सवाल यह है कि दिल में अब तक मुकाम किसका है !!

*************************

अमूमन लोगों को ज़िंदगी से शिकायत रहती है ! 

ज़िंदगी का हुलिया बिगाड़ने में हाथ किसका है !! 

*************************

आदमी की ज़िंदगी तो कुदरत का उपहार है ! 

आदमी होकर भी हम कुदरत से मज़ाक करते हैं !!

*************************

आज का बच्चा भी अपने को मां-बाप से सयाना समझता है ! 

अहम् सवाल यह है ज़िंदगी जीना अब उसे सिखाए कौन !!

*************************

आदमी की फ़िजूल शौक का अंजाम यह निकला !

बग़ावत कर रही है कुदरत आज आदमी की ज़िंदगी से !!

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !