ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने की मस्जिद में नमाज की मांग,संगीत सोम बोले- यह उनकी खाला की सरकार नहीं है,जेल भेजने की धमकी दी
July 22, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है, लेकिन फिर भी नेता इस पर सियासत से बाज नहीं आ रहे. संभल से समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क इन मुश्किल हालात में भी बकरीद पर मस्जिदों में नमाज की मांग कर रहे हैं. इस पर बीजेपी विधायक संगीत सोम ने उन्हें जेल भेजने तक की धमकी दे डाली.

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा था कि कोई उनके नमाज पढ़ने पर पाबंदी नहीं लगा सकता. ये मुसलमानों का बड़ा त्यौहार है. इस दिन मुसलमान बाजारों में जाकर जानवर खरीद कर लाते रहे है, लेकिन अब जानवरो के बाजार ही नहीं लग रहे है. ऐसे में त्यौहार कैसे हो सकता है. पाबंदी लगाना ठीक नहीं है.

 

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा था कि अभी दो दिन पहले संभल डीएम आये थे, उनके सामने भी हमने यही मांग रखी कि जानवरों के बाजार लगने दिए जाएं. सपा सांसद ने ईद की नमाज को लेकर कहा कि जब तक देश के सभी मुसलमान मस्जिदों में जाकर नमाज पढ़कर दुआ नहीं मांगेंगे, तब तक कोरोना को नहीं भगाया जा सकता.

जेल में डालने की धमकी

इस पर बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा कि सांसद को पता होना चाहिए कि यह उनकी खाला की सरकार नहीं है, भाजपा सरकार है और यहां कायदे और कानून से काम किया जाता है. अगर सांसद के बयान में दम है तो सबसे पहले पाकिस्तान में कोरोना गायब हो जाना चाहिए था. सपा सांसद को भी कानून का पालन करना चाहिए.

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क को धमकी देते हुए बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कहा कि अगर सपा सांसद बात नहीं मानते हैं तो जिस तरह आजम खान की ईद जेल में मनी है, उनकी बकरीद भी जेल में मनेगी. संगीत सोम ने कहा कि बकरीद पर यह किसने कहा है कि बकरा काटे जाएं, साग आलू खाकर भी त्यौहार मनाया जा सकता है.

सपा सांसद ने किया पलटवार

संगीत सोम के बयान पर पलटवार करते हुए सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने कहा कि संगीत सोम की खुद की मीट फैक्ट्री है और वो सब को मीट खिलाते हैं. मीट का कारोबार करते हैं, मगर दूसरों पर तंज कसने से पहले खुद के गिरेबान में झांक लें, अगर आप मीट को पसंद नहीं करते हैं तो मीट की फैक्ट्री क्यों चला रहे हैं.