ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
मनमोहन श्रीवास्तव काजू ने प्रधानमंत्री द्वारा चाइनीस ऐप पर प्रतिबंध लगाने का किया स्वागत,कहा यह प्रतिबंध आत्मनिर्भर भारत बनने की ओर बड़ा कदम है
July 1, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • बस्ती मंडल

बस्ती:-1 जुलाई को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं जीएसटी,आयकर व आर्थिक सलाहों के वरिष्ठ अधिवक्ता मनमोहन श्रीवास्तव काजू ने प्रधानमंत्री द्वारा चाइनीस ऐप पर प्रतिबंध लगाने का स्वागत करते हुए कहा यह प्रतिबंध आत्मनिर्भर भारत बनने की ओर बड़ा कदम है, प्रधानमंत्री ने 59 चीनी ऐप पर प्रतिबंध लगाकर चीन को यह बताने का प्रयास किया है कि भारत अब आत्मनिर्भर बनने की दिशा में अग्रसर हो रहा है, भारत अब किसी अन्य देश का मोहताज नहीं है मनमोहन श्रीवास्तव काजू ने कहा हम लोगों को चाइनीस सामानों के इस्तेमाल की आदत से परहेज करना होगा हमारे देश के पैसे से चीन मजबूत हो रहा है। अब समय आ गया है कि अब चीन को उसी की भाषा में जवाब दिया जाए इसलिए हम सब चाइनीस सामानों का बहिष्कार करें मनमोहन श्रीवास्तव काजू ने कहा मैं स्वयं चाइनीस समान खरीदना पूरी तरीके से बंद कर दिया हूं हम सभी देशवासियों को चाइना को उसकी औकात दिखानी है और आत्मनिर्भर भारत की ओर कदम बढ़ाना है। प्रधानमंत्री जी का यह कदम चाइना की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ कर रख देगा, हम बॉर्डर पर सर्जिकल स्ट्राइक के साथ-साथ उनके सामानों पर भी सर्जिकल स्ट्राइक कर कर दिया गया है हमको उनकी अव्यवस्था तोड़ने का संकल्प लेना पड़ेगा,भारतीय बाजारों से हर वर्ष चाइना को लगभग कई हजार करोड़ का फायदा होता था जो इस समय घटकर आधे से भी बहुत कम हो गया। यह कहीं ना कहीं प्रधानमंत्री जी का दृढ़ संकल्प है हमारे सेना के जवान बॉर्डर पर ईट का जवाब पत्थर से दे रहे हैं चीनी सैनिकों की इच्छा शक्ति भारत के सैनिकों के आगे कमजोर होती दिख रही है। ऐसे संकट के समय मे विपक्ष द्वारा अनाप-शनाप बयान जारी कर देश को कमजोर करने का प्रयास किया जा रहा है, जो अत्यंत निंदनीय है आने वाले समय में देश की जनता इसका जवाब उन लोगो को देगी। प्रधानमंत्री जी के द्वारा चाइनीस सामानों पर प्रतिबंध की सराहना पूरा विश्व कर रहा है अगर हम चाइनीस सामानों का लगातार बहिष्कार कर देते हैं तो चाइना की अर्थव्यवस्था औंधे में गिर जाएगी और वह भारत के सामने घुटने टेकने को मजबूर हो जाएगा।