ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
मगर कैसे कहूं तुम्हारी सादगी ने आज मेरे वसूल तोड़ डाले -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
October 9, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

बरसों से सादगी की तलाश रही मुझको ! 

आज तुमसे मिलकर कायल हो गया मैं !! 

*************************

पुराने दौर में सादगी का बड़ा बोलबाला था !! 

नए दौर में हर तरफ लफ़्फ़ाज़ी और मक्कारी है !!

*************************

भरोसा मत तोड़ना कभी भी इंसानियत का तुम ! 

तुम्हारी सादगी तुम्हें हर एक मुकाम दिलाएगी !! 

*************************

तुम्हारे लिबास की सादगी देख मुझको भरोसा है तुम पर ! 

दौलत की दरिया में कभी पाप का घड़ा नहीं भरोगे तुम !! 

*************************

मेरी सादगी का एहसास तुम्हें भी हो जाएगा पास आओ तो सही ! 

इंसान की बस्ती में रहकर शैतानों से रिश्ता नहीं रखते हम !! 

*************************

मुसीबत देख अपने वसूलों से कभी समझौता नहीं किया मैंने ! 

मगर कैसे कहूं तुम्हारी सादगी ने आज मेरे वसूल तोड़ डाले !! 

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !