ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
कोरोना रोकने में विफल रही उद्धव सरकार, हम नहीं चाहते हैं कोरोना के दौरान कोई राजनीतिक संकट हो : फडणवीस
May 28, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • राष्ट्रीय

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उद्धव सरकार पर निशाना साधा है. आजतक से खास बातचीत में देवेंद्र फडणवीस ने बीजेपी नेता नारायण राणे के बयान पर कहा कि अभी ये राष्ट्रपति शासन या महाराष्ट्र में सरकार बनाने का समय नहीं है. अभी हम सबको कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़नी है.

पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र की स्थिति चिंताजनक है. देश के 36 फीसदी मरीज महाराष्ट्र के हैं. इसका कारण है कि महाराष्ट्र सरकार सख्ती नहीं कर पाई. धारावी-वर्ली में संक्रमण तेजी से फैला है. मुंबई में अस्पताल, बेड, एंबुलेंस नहीं मिलती है. लोग सड़कों पर मर रहे हैं. सरकार को जो इंतजाम करने चाहिए थे, वह नहीं कर पाई.

मुंबई में कम हो रही है टेस्टिंग

देवेंद्र फडणवीस ने आरोप लगाया कि मुंबई में सैंपल को कम करने का काम किया गया है. मुंबई में रोज 10 हजार सैंपल टेस्ट करने की क्षमता है, लेकिन सिर्फ 3.5 हजार टेस्ट किए जा रहे हैं. पिछले तीन-चार दिन में टेस्टिंग और कम हो गई है. टेस्टिंग बढ़ानी चाहिए. सरकार को टेस्टिंग और व्यवस्थाएं बढ़ानी चाहिए.

लॉकडाउन का बार-बार हुआ उल्लंघन

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मुंबई में लॉकडाउन का उल्लंघन बार-बार हुआ. जिन 3 करोड़ लोगों के पास राशन कार्ड है, उन्हें मार्च-अप्रैल में राशन नहीं मिला. मई महीने में राशन दिया गया. जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, उसका हिसाब नहीं रहा है. लोगों के पास खाने को सामान नहीं था, इसलिए लोग बाहर निकल आएं.

सरकार नहीं कर पाई व्यवस्था

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मुंबई में शुरुआत में ही हॉस्पिटल को पीपीई किट देने की जरूरत थी, लेकिन सरकार व्यवस्था नहीं कर पाई. शुरुआती दिनों में तो सरकारी अस्पतालों में एनजीओ पीपीई किट दे रहे थे. राज्य सरकार खरीद नहीं पा रही थी. इस वजह से फ्रंटलाइन वॉरियर्स कोरोना संक्रमित हो गए.

नहीं चाहते हैं कोई राजनीतिक संकट

बीजेपी नेता नारायण राणे के बयान पर पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हम राष्ट्रपति शासन या सरकार बनाने के इच्छुक नहीं हैं. अभी हम सबको मिलकर कोरोना की लड़ाई लड़नी पड़ेगी और ऐसे में राज्य की सरकार अस्थिर हो या राज्य में कोई राजनीतिक संकट न खड़ा हो.