ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
कद्र करिए शरीफों की तो शायद कुछ माहौल बदल जाए -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
August 20, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

तुम्हारी शराफ़त की बातें पसंद नहीं है सबको ! 

यहाँ तो कुछ लोग बस हंगामा ही समझते हैं !! 

*************************

किसी की शराफ़त को उसकी कमजोरी मत समझना ! 

शरीफ़ जब अपने पर आएगा तो भूत बन जाएगा !! 

*************************

लफंगों के साथ तुम्हारी मौज-मस्ती बड़ी बेशर्म है !

साथ रहकर इनके ज़िंदगी में सुकून नहीं पाओगे !! 

*************************

किसी की शराफ़त भी समझना आसान नहीं आजकल ! 

गुंडे मवाली भी वक्त आने पर शराफ़त का चोला पहन लेते हैं !! 

*************************

कद्र करिए शरीफों की तो शायद कुछ माहौल बदल जाए ! 

वरना यहाँ गुंडे तो हमेशा अपना गैंग बनाकर रखते हैं !!

*************************

बुरे वक्त में किसी शरीफ़ का साथ निभा कर देखो ! 

तय है शराफ़त की कीमत ठीक से तुम जान जाओगे !! 

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !