ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
कानपुर केस:शहीद सीओ देवेन्द्र मिश्रा के परिजनों ने योगी की तारीफ की, वही प्रियंका गांधी ने कहा कि उप्र की कानून-व्यवस्था बदतर हो चुकी है
July 10, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • उत्तर प्रदेश

कानपुर एनकाउंटर में शहीद आठ पुलिकर्मियों के परिजनों ने विकास दुबे के एनकाउंटर पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की तारीफ की है। मध्य प्रदेश से विकास दुबे को उत्तर प्रदेश ला रही पुलिस ने रास्ते में उसका एनकाउंटर कर दिया। जिस गाड़ी में विकास दुबे था वह दुर्घटना का शिकार हो गई इसके बाद विकास दुबे ने पुलिस वालों पर फायरिंग की जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में विकास का मार गिराया गया।

कानपुर में हुए एनकाउंटर में शहीद एक पुलिसकर्मी के रिश्तेदार ने सीएम योगी की तारीफों के पुल बांधे हैं। उन्होंने सीएम योगी को रुद्र अवतार कहा है।यह बयान कमलकांत का है जो शहीद सीओ देवेंद्र कुमार मिश्रा के रिश्तेदार हैं। उन्होंने कहा कि मैं भी योगी की तरह मैं भी संन्यासी हूं। समाज का दर्द वह समझते हैं। सीएम योगी अपने स्तर पर सब ठीक करने की पूरी कोशिश कर रहे, ठीक वैसे जैसे रुद्र अवतार। लेकिन सिर्फ अकेला आदमी सब ठीक नहीं कर सकता। उन्होंने आगे कहा कि विकास को शरण देने वालों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए।

इधर सीएम योगी पर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने कहा कि उत्तर प्रदेश अब अपराध प्रदेश बन गया है। विकास दुबे जैसे अपराधी सत्ता में शामिल लोगों की बदौलत फलफूल रहे हैं। कांग्रेस कानपुर के पूरे प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट के जज द्वारा जांच की मांग करती है।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर सूबे की योगी सरकार पर निशाना साधा है, उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, उप्र की कानून-व्यवस्था बदतर हो चुकी है। राजनेता-अपराधी गठजोड़ प्रदेश पर हावी है। कानपुर कांड में इस गठजोड़ की सांठगांठ खुलकर सामने आई। कौन-कौन लोग इस तरह के अपराधी की परवरिश में शामिल हैं- ये सच सामने आना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज से पूरे कांड की न्यायिक जाँच होनी चाहिए।

 

इससे पहले आठ जुलाई को भी उन्होंने ट्वीट करते हुए उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए थे। उन्होंने लिखा था, पूरे देश के कुल अवैध हथियारों के मामले में 56% मामले यूपी में दर्ज हैं। 2016-2018 के मध्य यूपी में साइबर अपराधों के मामले में 138% की वृद्धि हुई। यूपी सरकार इन आंकड़ों को संज्ञान में लेकर एक्शन लेने की बजाय इनकी बाजीगरी करने का काम कर रही है। अपराध कम कैसे होगा?