ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
गन्ना पेराई सत्र 2020-21 में किसानों को पर्ची अब मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से मिलेगी,किसान जल्द नंबर फीड कराए :- डीएम बस्ती
June 5, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • बस्ती मंडल

बस्ती 05 मई 2020 सू०वि०, गन्ना पेराई सत्र 2020-21 में किसानों को पर्ची अब मोबाइल पर एसएमएस के माध्यम से मिलेगी। इसके आधार पर किसान को गन्ना मिल पर लाते समय अपना परिचय पत्र साथ में रखना होगा। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन उक्त जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष गन्ना पर्ची की हार्ड कॉपी वितरित नहीं होगी। उन्होंने गन्ना किसानों से अपील किया है कि वे अपना मोबाइल नंबर सही से फीड कराएंगे ताकि उन्हें समय पर जानकारी मिल सके।

             कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित आगामी सत्र में गन्ना पेराई की तैयारी बैठक में उन्होंने बताया कि गन्ना किसानों को अब प्रत्येक सूचना उनके मोबाइल पर प्राप्त होगी।उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में गन्ना सर्वे का काम चल रहा है। इसकी भी सूचना समय-समय पर उन्हें मोबाइल पर प्राप्त होती रहेगी।

        उन्होंने बताया कि चकबंदी वाले गांव में गन्ना सर्वे के दौरान चकबंदी लेखपाल भी जाएंगे सर्वे के लिए। चकबंदी के अलावा अन्य गांव में गन्ना विभाग तथा गन्ना समितियों के कर्मचारी की टीम जाती है।

         जिलाधिकारी ने निर्देश दिया हैं कि गन्ना सर्वे के दौरान वैरायटी के पहचान की गलती क्षम्य नहीं होगी। इसके लिए जिला गन्ना अधिकारी को जिम्मेदार माना जाएगा। उन्होंने सख्त हिदायत दी है कि सर्वे के दौरान किसानों के नाम तथा अकाउंट नंबर गलत दर्ज नहीं होना चाहिए। इससे गन्ना किसानों को अनावश्यक परेशानी होती है।

       उन्होंने जिला गन्ना अधिकारी को निर्देश दिया कि सर्वे के लिए जाने वाले कर्मचारियों को समुचित ट्रेनिंग दी जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि टीम जब सर्वे के लिए खेत पर जाएं तो संबंधित किसान भी वहां उपलब्ध रहे, इसके बाद खतौनी पढ़कर सुनाए जाने के समय भी किसान वहां उपलब्ध रहे ताकि किसी प्रकार की त्रुटि को सही किया जा सके।

       जिला गन्ना अधिकारी रंजीत कुमार निराला ने बताया कि गन्ना सर्वे का कार्य जीपीएस युक्त मशीन से किया जाता है, पूरे जिले में गन्ना क्षेत्र को 135 सर्किल में बांटा गया है। सर्वे के लिए चीनी मिलों के 135 तथा गन्ना विभाग के 94 कर्मचारी लगाए गए हैं,शेष कर्मचारी समितियों से लिए गए।

         उन्होंने बताया कि सर्वे का कार्य 15 मई से शुरू हुआ है, इसे 30 जून तक पूरा किया जाना है। सर्वे के पूर्व गन्ना किसानों को एसएमएस के माध्यम से पंपलेट वितरित कर प्रचार-प्रसार किया जाता है। सर्वे पूरा होने के बाद गांव में खतौनी पढ़कर सुनाया जाता है। इसके पूर्व भी गन्ना किसानों को एसएमएस के माध्यम से जानकारी दी जाती है। उन्होंने बताया कि लगभग 30% सर्वे का कार्य पूरा कर लिया गया।

      बैठक का संचालन जिला गन्ना अधिकारी रंजीत कुमार निराला ने किया। बैठक में एडीएम रमेश चन्द्र, चीनी मिलों के प्रबन्धक डाॅ0 आर.एन. त्रिपाठी, बृजेन्द्र द्विवेदी, डाॅ0 ए0के0त्रिपाठी, ए0के0एस0 बघेल, पी0के0 चतुर्वेदी, तहसीलदार पवन जायसवाल, चन्द्र भूषण प्रताप, प्रमोद कुमार, देवकी नन्दन, एसडीआई, सचिवगण उपस्थित रहे।  

------------