ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
दूसरे कार्यकाल के 1 साल पूरे होने पर मोदी सरकार के कार्यो में कई उपलब्धियां दर्ज
May 29, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • राष्ट्रीय

नरेंद्र मोदी सरकार ने 30 मई को दूसरी बार देश की बागडोर संभाली थी, कैलेंडर के हिसाब से आगामी 30 मई को इस सरकार के 1 साल पूरे हो रहे हैं। बीते एक बरस में मोदी सरकार कई मुद्दों पर विपक्ष के निशाने पर रही है, लेकिन सरकार ने कई ऐसे कार्य भी किए हैं, जो कि आम जनता के हित में है। मोदी सरकार के एक साल पूरे होने पर आज हम आपको बता रहे हैं सरकार की ओर से किए गए वो कार्य जो काबिल-ए-तारीफ हैं। 

नरेंद्र दामोदरदास मोदी के वादों पर एक बार फिर देश ने यकीन किया और एक बार फिर से उन्हें शासन चलाने का जिम्मा सौंपा। अपने पहले कार्यकाल से भी विराट जीत के साथ नरेंद्र मोदी सियासी सफलता के साम्राज्य हो गए। मोदी सरकार के एक साल के कार्यकाल में वैसे तो उपलब्धियों की कमी नहीं है, जैसे धारा 370 खत्म करना, राम मंदिर, ट्रिपल तलाक और नागरिकता संशोधन कानून। 

कश्मीर से 370 खत्म करना 

नरेंद्र मोदी सरकार ने जिम्मा संभालते ही कई नामुमकिन को मुमकिन बनाया है। उन सपनों को पूरा किया है जो सपने इस देश ने देखे थे। देश की आवाम ने देखे थे। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाने का कदम उठाने के साथ-साथ राज्य को दो हिस्सों में बांटने का काम भी इसी कार्यकाल में हुआ। मोदी सरकार के इस फैसले के बाद कश्मीर में एक देश, एक विधान और एक निशान लागू हो गया है।

तीन तलाक

मोदी सरकार ने सत्ता में दूसरी बार कदम रखते ही मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से निजात दिलाने का कदम उठाया। मोदी सरकार ने तीन तलाक पर पाबंदी के लिए 'मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण विधेयक-2019' को लोकसभा और राज्यसभा से पारित कराया।

बैंकों के विलय का फैसला

मोदी सरकार ने देश में आर्थिक सुधार की दिशा में अहम कदम उठाते हुए दस सरकारी बैंकों के विलय करके चार बड़े बैंक बनाए। जिसके तहत ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक का पंजाब नेशनल बैंक में विलय किया गया। सिंडिकेट बैंक को केनरा बैंक और इलाहाबाद बैंक को इंडियन बैंक में मिलाया गया

पीएम ने घोषित किया 20 लाख करोड़ का पैकेज

कोरोना वायरस के कारण जारी लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए 20 लााख करोड़ रुपये के विशेष राहत पैकेज का ऐलान किया। जिसमें हर एक सेक्टर को कोरोना से उबरने के लिए अनेक राहतें दी गई हैं। ये पैकेज भारत की जीडीपी का लगभग 10 प्रतिशत है।

आत्मनिर्भर भारत का मंत्र

प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर अभियान की भी शुरुआत की। कोरोना संकट के इस दौर का फायदा उठाने का मंत्र दिया। चाहे वो पीपीई किट बनाने की बात हो या एन 95 मास्क बनाने की बात हो। चाहे टेक्नोलाजी की बात हो या दवाईयां बनाने की बात हो। अब भारत को आत्मनिर्भर होना होगा और इस हद तक होना होगा जो कि इससे पहले देश कभी नहीं हुआ था। वहीं अब आगे का रास्ता है। इसके लिए अपनी क्वालिटी को सुधारने होगा और सप्लाई चेन को सुधारना होगा। लोकल के प्रति वोकल होना होगा।

कोरोना मैनेजमेंट

कोरोना संकट के दौर में जब विश्व की महाशक्ति देशों की हालत पतली हो गई, वहां भारत ने काफी हद तक हालात को काबू में रखा। हिन्दुस्तान जैसे विशालकायी देश में सत्तर दिन तक लॉकडाउन का पालन होता है तो यह अपने आप में एक उपलब्धि है, प्रधानमंत्री के एक आह्वाहन पर पूरा देश उनके पीछे खड़ा नजर आया और लॉकडाउन को सफल बनाने में कंधे से कंधा मिलाकर चलता नजर आया।