ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
डी यम ने रामनगर ब्लाक के खंड विकास अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत, कई लोगों को आरोप पत्र जारी करने का दिया निर्देश
May 29, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • बस्ती मंडल

बस्ती 29 मई 2020 सू०वि०, विकासखंड रामनगर के निरीक्षण में भारी लापरवाही एवं अनियमितता पाए जाने पर जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने खंड विकास अधिकारी, सहायक विकास अधिकारी पंचायत, अवर अभियंता लघु सिंचाई तथा सहायक विकास अधिकारी सांख्यिकी को आरोप पत्र जारी करने का निर्देश दिया है।

           उल्लेखनीय है कि गुरुवार को ब्लाक रामनगर का जिलाधिकारी द्वारा आकस्मिक निरीक्षण किया गया था जहां पर खंड विकास अधिकारी प्रभा शंकर चैबे का पर्यवेक्षण शिथिल पाया गया। निरीक्षण में जिलाधिकारी ने पाया कि मनरेगा कार्यों का डोंगल तो जारी किया गया है, परंतु इसकी पत्रावली अपूर्ण है तथा खंड विकास अधिकारी द्वारा इस पर हस्ताक्षर नहीं किए गए, ग्रांट रजिस्टर भी अधूरा पाया गया, राष्ट्रीय आजीविका ग्रामीण मिशन के तहत लाभार्थी समूहों का खाता नहीं खुलवाया गया है, कर्मचारियों का कोई कार्य विभाजन नहीं है। इसके लिए उन्हें आरोप पत्र जारी करने के लिए सीडीओ को निर्देशित किया गया।

        निरीक्षण में जिलाधिकारी ने पाया कि सहायक विकास अधिकारी पंचायत नवनीत मिश्रा के कार्य क्षेत्र में स्वच्छ भारत मिशन की प्रगति खराब है 5 ग्राम पंचायतों में 80 प्रतिशत से कम शौचालय पूर्ण है। लापरवाह ग्राम पंचायत सचिवों के विरुद्ध जिला स्तर से की गई कार्रवाई का अनुपालन उनके द्वारा नहीं किया गया है। जिलाधिकारी ने इन्हें भी आरोप पत्र जारी करने के लिए डीपीआरओ को निर्देशित किया है। इसके अलावा स्वच्छ भारत मिशन के तहत 5 अपूर्ण शौचालय वाले ग्राम पंचायत सचिव को तथा ग्राम पंचायत सचिवों जिनके ग्राम में एक भी नो वन लेफ्ट बिहाइंड एन ओ एल बी लाभार्थियों के शौचालय नहीं बने हैं को आरोप पत्र जारी करने का निर्देश दिया है।

           जिलाधिकारी ने निरीक्षण में रामनगर ब्लाक में महिला स्वयं सहायता समूह के खाते बैंक में न खुलवाए जाने के लिए सहायक विकास अधिकारी सांख्यिकी अर्जुन प्रसाद को दोषी मानते हुए उनके विरुद्ध आरोप पत्र जारी करने का निर्देश दिया। अवर अभियंता लघु सिंचाई से पूछताछ में वे अपने विभागीय योजनाओं की जानकारी भली-भांति नहीं दे पाए मौके पर कोई पत्रावली भी नहीं दिखा पाए उन्होंने स्वीकार किया कि वे पत्रावली ऑफिस में न रखकर के घर में रखते हैं, जिलाधिकारी ने इस लापरवाही के लिए उनके विरुद्ध भी आरोप पत्र जारी करने के लिए अधिशासी अभियंता लोक सिंचाई को निर्देशित किया है।

-----------