ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
अगर मैं तुम्हें अपना भाई कहूं तो बुरा क्या है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
September 20, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

जी जान से चाहता हूं मैं तुमको फिर भी ! 

न जाने किन बातों पर मुंह फुलाए बैठे हो !! 

************************

भाव मिलता है तुमसे सगे भाई से कहीं ज्यादा ! 

अगर मैं तुम्हें अपना भाई कहूं तो बुरा क्या है !! 

*************************

तुम हमेशा अपना ही हित साधने में लगे हो ! 

कभी दोस्तों और पड़ोसियों पर भी नज़र रखो !! 

*************************

तुम्हारी खुशी का पैमाना आज तक समझा नहीं मैं ! 

हां मगर तुमसे बात करके खुशी मिलती है मुझको !! 

*************************

मालूम नहीं यार तुम किस मिट्टी के बने हो ! 

दुख दर्द दूसरों का भी कभी समझो तुम!! 

*************************

एक दौर था जब आदमी को आदमी से मदद मिलती थी !! 

आदमी आदमी की मदद कर दे बड़ी बात है आजकल !! 

*************************

बारह व्यंजन खाकर भी नींद नहीं आती तुमको ! 

सोचो मजदूर नमक रोटी खाकर खर्राटे भरता है !! 

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !