ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
आज़ाद पंछी की तरह मेरी भी चाहत है उड़ने की -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
August 11, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

आज़ाद पंछी की तरह मेरी भी चाहत है उड़ने की ! 

कोई चमत्कार हो ऐसा की चाहत साकार हो जाए !! 

*************************

आज़ाद भारत की एक तस्वीर हमें खटकती है !

मां-बाप की आज़ादी पर अंकुश लगाते हैं बच्चे !! 

*************************

हमें स्वच्छंदता नहीं चाहिए कभी भी आत्मीय पारिवारिक रिश्तों के बंधन में ! 

आज़ाद होकर भी हमें मां-बाप की ख्वाहिशों का बंधन मंजूर है ख़ुशी - ख़ुशी !! 

*************************

नहीं है अंकुश तुझ पर फिर भी तेरे उड़ान की एक सीमा है ! 

आज़ाद होने का मतलब यह नहीं कि अनुशासन से दूर हो जाओ !! 

*************************

आज़ाद भारत का सपना देखते थे हमारे पूर्वज कभी ! 

आज कथित आज़ादी से भी ढेरों शिकायत है हम सबको !! 

*************************

तुम्हें देशभक्तों के त्याग की अहमियत का अंदाजा नहीं शायद ! 

आज़ाद होकर अपनी ज़िंदगी गुजारते रहना कितना क़ीमती है !! 

************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !