ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
25 हजार का इनामी अमर दुबे,एसटीएफ एवं हमीरपुर पुलिस द्वारा में मुठभेड़ ढेर, विकास दूबे का साथी व भतीजा था अमर
July 8, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • उत्तर प्रदेश

लखनऊ/हमीरपुर‌। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त रुख के बाद पुलिस-एसटीएफ ने विकास दुबे व उसके साथियों की धरपकड़ के लिए अपनी कार्यवाही तेज कर दी है। इसी के चलते कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव में 2 जुलाई की रात सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या की घटना में शामिल विकास दुबे के साथी 25 हजार के इनामी अमर दुबे को आज तड़के हमीरपुर के मौदहा में एसटीएफ एवं हमीरपुर की पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही में मुठभेड़ में मार गिराया। थाना प्रभारी व एसटीएफ के एक कांस्टेबल को भी गोली लगी है। उधर विकास दुबे के एक और साथी श्यामू वाजपेई को कानपुर पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया, इस पर भी 25 हजार का ईनाम घोषित था।

अमर की मां की भी हो चुकी है गिरफ्तारी…..

पुलिस से लगातार छिपकर भाग रहे अमर दुबे ने पुलिस-एसटीएफ पर फायरिंग की जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया। अमर दुबे इस सामूहिक हत्याकांड में मुख्य आरोपी विकास दुबे का सबसे करीबी था और रिश्ते में उसका भतीजा लगता था। पुलिस के मुताबिक अमर दुबे पर चौबेपुर थाने में 5 मुकदमे दर्ज है इसके अलावा भी इस पर कई मुकदमे दर्ज होने की बात कही जा रही है। घटना वाले दिन वह भी हमले में शामिल था

और छत से विकास के साथ पुलिसकर्मियों पर फायरिंग कर रहा था। अमर दुबे को विकास का शातिर शार्प शूटर बताया जाता है। अमर घटना वाले दिन ही पुलिस मुठभेड़ में मारे गए अतुल दुबे का सगा भतीजा है। 2 दिन पहले ही पुलिस ने अमर दुबे की मां क्षमा दुबे को हमलावरों को संरक्षण दिए जाने के आरोप में जेल भेजा था।

मुख्यमंत्री की नाराजगी के बाद “तेजी” शुरू…..

मुठभेड़ स्थल से कई चले हुए कारतूस और ऑटोमेटिक पिस्टल बरामद तथा एक नीला बैग बरामद हुआ है। हमीरपुर के एसपी श्रलोक कुमार के अनुसार मौदाहा थाना क्षेत्र के नेशनल रोड के पास हुई मुठभेड़ में थाना प्रभारी व एसटीएफ के एक कांस्टेबल को भी गोली लगी है, उन्हे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अमर दुबे के अरतरा गांव में छिपे होने की सूचना पुलिस को मिली थी। वह यहां से भागकर मध्यप्रदेश जाने की फिराक में था। अमर दुबे के अन्य साथियों की तलाश में पूरे इलाके में कंम्बिग कीजा रही है। पुलिस द्वारा विकास दुबे के वांछित साथियों की सूची में अमर दुबे का नाम सबसे ऊपर था। उधर इस मामले में अभी तक फरार विकास दुबे की गिरफ्तारी न होने से मुख्यमंत्री की नाराजगी के चलते अब पुलिस एवं एसटीएफ ने अपनी कार्रवाई तेज कर दी है। इसी क्रम में विकास दुबे के 18 नामजद साथियों में से 25 हजार के एक और ईनामी बदमाश श्यामू वाजपेई को कानपुर नगर की पुलिस ने मुठभेड़ में गिरफ्तार किया है। ( विजय आनंद वर्मा)