ALL बस्ती मंडल उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय अर्थ जगत फिल्म/मनोरंजन/खेल/स्वास्थ्य अपराध हास्य व्यंग/साहित्य धर्म विविध
<no title>स्वार्थ की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
September 11, 2020 • डॉ पंकज कुमार सोनी • हास्य व्यंग/साहित्य

कद्र कहाँ कोई करता है आजकल रिश्तों की !

तमाम रिश्ते घूम रहे हैं पहचान का संकट लिए !! 

*************************

रवैया ऐसा हो गया आदमी का अपने स्वार्थ में ! 

आदमी ही आदमी का खून पीने को आतुर है !! 

*************************

सामाजिक रिश्तों का अब तो कोई चलन ही नहीं ! 

औलादें मां बाप की नहीं तो फिर और किसकी !! 

*************************

स्वार्थ की की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है ! 

ज़रूरत आने पर लोग गैर को भी रिश्तेदार बताते हैं !!

*************************

वक्त के साथ कुछ आदमी खिलवाड़ करते हैं रिश्तों से ! 

मेरी थाली में खाना खाकर भी आज पहचानता नहीं मुझको !! 

*************************

तेरे पास लुटाने को दौलत है अगर तो फ़िक्र मत कर ! 

कहने सुनने को तेरे पास रिश्तों की बड़ी श्रृंखला होगी !! 

*************************

करूं गुणगान मैं किसका उतारूं आरती मैं किसकी ! 

आज का आदमी भी रंग बदलता है बहुत जल्दी से !! 

**************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !